Total Pageviews

Sunday, October 9, 2011

2011 के नोबल पुरस्कार विजेता-1


 स्वीडिश वैज्ञानिक और डायनामाइट के आविष्कारक अल्फ्रेड बर्नाड नोबेल  की संपत्ति से हर साल उन लोगों को सम्मानित किया जाता है जिनके कार्यों से दुनिया में खुशहाली  और अमनचेन कायम हो

हर साल चिकित्सा, भौतिकी, रसायन, साहित्य और शांति के साथ साथ अर्थशास्त्र के क्षेत्र में अहम योगदान के लिए सबसे प्रतिष्ठित नोबेल पुरस्कार दिए जाते हैं. शुरुआत हुई उसमें अर्थशास्त्र के क्षेत्र में योगदान के लिए किसी पुरस्कार का जिक्र नहीं है. लेकिन 1968  में स्वीडन के केंद्रीय बैंक ने अपनी 300वीं वर्षगांठ पर अल्फ्रेड नोबेल की याद में इस पुरस्कार को शुरू किया.


वर्ष २०११ के नोबल पुरुस्कार 


१-भौतिकी -

भौतिकी के क्षेत्र में अमूल्य योगदान के लिए अमेरिका के सॉल पर्लमटर और एडम रीस तथा अमेरिकी मूल के आस्टेलियाई नागरिक ब्रायन   श्मिट को 2011 का नोबेल पुरस्कार दिया जायेगा |  



 इस वर्ष के नोबल पुरुस्कार का आधा हिस्सा  सॉल पर्लमटर को और शेष आधे हिस्से को सयुंक्त रूप से  एडम रीस तथा अमेरिकी मूल के आस्टेलियाई नागरिक ब्रायन श्मिट को   दिया जाएगा |   इन वैज्ञानिको ने अपने अनुसन्धान में फटते तारों का अध्ययन किया है। वैज्ञानिकों ने अध्ययन में बताया है कि तारों के फटने से ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है।




इन वैज्ञानिको ने  एक विशेष प्रकार के सुपरनोवा यानी फटते तारों के विश्लेषण के जरिए ब्रह्मांड के विस्तार के बारे में जानकारियां दी हैं। वैज्ञानिकों ने अपने अध्ययन में बताया कि 50 से अधिक सुपरनोवा से निकलने वाला प्रकाश उम्मीद से कम है जिससे पता चलता है कि ब्रह्मांड का विस्तार तेज गति के साथ हो रहा है।







२- रसायन 
  रसायन शास्त्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए वर्ष 2011 का नोबेल पुरस्कार इजरायल के वैज्ञानिक डेनियल शेचमैन को दिया जाएगा |उन्हें ये पुरुस्कार  'स्फटिक (क्रिस्टल) में परमाणु संरचना की महत्वपूर्ण  खोज' के लिए सिया जाएगा |


















३-चिकित्सा 
चिकित्सा के क्षेत्र में २०११ के नोबल पुरुस्कार ब्रिउस ए बयूत्लेर ,जुल्स  ए. होफ्फ्मन्न तथा राल्फ  एम् . स्तेंमन को दिया जाएगा |इन्हें ये पुरुस्कार रोग प्रतिरोधक तंत्र की प्रतिरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान देने वाली कोशिकाओं की खोज के लिए दिया जाएगा 

 








   

                                                             













No comments:

Post a Comment