Total Pageviews

Sunday, July 10, 2011

लाइफ लाइन शिक्षा सेवा - सिर्फ एक फोन कॉल पर समस्या समाधान

क्या है लाइफ लाइन शिक्षा सेवा -
    राजस्थान में शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे नवाचारों एक नया नवाचार है "लाइफ लाइन शिक्षा सेवा"| इस अनूठे नवाचार के जरिये शिक्षकों की शिक्षण सम्बन्धी कठनाई और जिज्ञासाओं को फोन के माध्यम से सुलझाया जाता है | सरल,सहज और उपयोगी तकनीकी आधारित यह सेवा दूर दराज के क्षेत्रों के लिए काफी उपयोगी है | आज तकनीकी ने जहाँ फोन और मोबाइल की सेवा दूरस्थ इलाकों तक उपलब्ध करवा दी है तब यह सेवा और भी अधिक प्रसांगिक हो गई है | इस सेवा का उपयोग शिक्षकों के लिए शिक्षण में आने वाली जटिल समस्याओं को सुलझाने में मददगार सिद्ध होगा |
उद्देश्य क्या है इस सेवा के -
   इस नवाचार का उद्देश्य ग्रामीण एवं दूर-दराज के इलाकों में स्थित स्कूल के शिक्षकों को फोन के माध्यम से विषय एवं अध्ययन-अध्यापन संबंधित समस्याओं का समाधान पाने में सहयोग करना है। इस सेवा को शिक्षक सहयोगी व्यवस्था के साथ में विकसित किया गया है जो कि शिक्षकों को उनके विषयों - जैसे विज्ञान, गणित, अंग्रेजी भाषा एवं कम्प्यूटर शिक्षा इत्यादि पर अकादमिक और विधा संबंधित समस्याओं का समाधान करायेगी।

कौन चलता है इसे -
    राजस्थान में राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद्, यूनिसेफ और वन वर्ल्ड फाउन्डेशन इंडिया के सहयोग से 2008 में उदयपुर जिले में ‘‘लाईफलाईन्स शिक्षा सेवा’’ को प्रायोगिक तौर पर आरंभ किया गया। इस चरण में लाईफलाईन्स शिक्षा सेवा को काफी मान्यता मिली। सेवा के परिणामों के प्रभाव की गुणवत्ता को देखते हुए एवं शिक्षकों द्वारा इसकी विशेष जरूरत के मध्य नज़र  इस नवाचार का 2010 में एक टोल फ्री सेवा के रूप में समूचे राजस्थान के लिए विस्तार किया गया है। राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद् इस सेवा को वर्तमान में चल रहे शिक्षक विकास कार्यक्रम के तहत स्थापित कर रहा हैं। वनवर्ल्ड फाउन्डेशन इंडिया संस्था ने इस सेवा की संकल्पना की है और इस सेवा हेतु आवश्यक समस्त तकनीकी सहायता एवं प्रबंधन में सहयोग कर रही है।
‘‘लाईफलाईन्स शिक्षा सेवा’’ कार्यक्रम का संयोजन एस.आई.ई.आर.टी., उदयपुर से किया जा रहा है। निदेशक, एस.आई.ई.आर.टी., उदयपुर को इसका नोडल अधिकारी बनाया गया है।

किन विषयों पर प्रश्न पूछे जा सकते हैं -
   इस सेवा को शिक्षक सहयोगी व्यवस्था के साथ में विकसित किया गया है जो कि शिक्षकों को उनके विषय संबंधित जैसे विज्ञान, गणित, अंग्रेजी भाषा एवं कम्प्यूटर शिक्षा इत्यादि पर अकादमिक विधा संबंधित समस्याओं जैसे पाठ्यपुस्तकों संबंधित, कक्षा प्रबंधन, बाल मनोविज्ञान, अध्यापन कला, टी.एल.एम. एवं नवीन विषयगत जानकारियाँ आदि से सम्बंधित प्रश्न या समस्याओँ का हल प्राप्त किए जा सकते हैं |
इस बेहतरीन नवाचार का उपयोग शिक्षकों के साथ साथ विद्यार्थी भी कर सकते हैं |
कैसे प्रयोग करें इस सेवा का -
   इस के लिए आप टोल फ्री -1800117273 पर कॉल करें | जहाँ पर संपर्क केन्द्र आपको आई.वी.आर.एस.सिस्टम के जरिए स्थानीय भाषा में प्रश्न रिकॉर्ड करने के लिए निर्देश देगा | आप अपना प्रश्न स्पष्ट भाषा में रिकॉर्ड करवाएं | तत्पश्चात आप को पहचान कोड (क्वेरी आई.डी.) दिया जाएगा | अब आपको अपने प्रश्न का उतर जानने के लिए 24 से 48 घन्टे का इंतजार करना होगा | क्योंकि इतने समय में सेवा के कार्मिक प्रश्न या समस्या का हल विशेषज्ञों से करवा लेते | अत: बेहतर ये रहेगा की आप 48 घन्टे बाद ही दुबारा फोन करें | समस्या या प्रश्न का हल जानने के लिए आप को उसी टोल फ्री नं.- 1800117273 पर फोन करना होगा ,यहाँ पर आप को प्रश्न पूछते समय दिया गया पहचान कोड डालने को बोला जाएगा | इस पहचान कोड को डालते ही आप को अपने प्रश्न का उतर आवाज के माध्यम से मिल जाएगा |
    मेरे ख्याल में आप सभी इस सेवा का उपयोग अवश्य ही करेंगे |आप से इतनी उम्मीद है की आप अपने अनुभवों को इसी पोस्ट पर टिप्पणी के माध्यम से जरूर शेयर करें

No comments:

Post a Comment