Total Pageviews

Monday, June 6, 2011

शिक्षा विभाग राजस्थान द्वारा बालिका शिक्षा को प्रोत्साहन देने के लिए किए जा रहे कुछ और प्रयास

बालिका शिक्षा फाउण्डेशन-

राज्य सरकार द्वारा राज्य में बालिका शिक्षा को बढावा देने हेतु बालिका शिक्षा फाउण्डेशन की स्थापना की गई ।इस फाउण्डेशन की स्थापना वर्ष १९९४-९५ में की गई | यह फाउण्डेशन आर्थिक दृष्टि से निर्धन परिवारों की प्रतिभावान बालिकाओं को उच्च एंव तकनीकी शिक्षा हेतु आर्थिक सहायता प्रदान करता है |यह फाउण्डेशन बालिकाओं की शालाओं में उपयुक्त भवन व मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति में वांछित सहयोग भी देता है।

गार्गी पुरुस्कार-

यह बलिका शिक्षा को प्रोत्साहन देने हेतु अत्यंत महत्व पूर्ण योजना है | माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, राजस्थान, अजमेर की माध्यमिक/ प्रवेशिका परीक्षा (दसवीं) में 75 प्रतिशत व इससे अधिक प्राप्तांक प्राप्त करने वाली समस्त छात्राओं को दो वर्ष तक कक्षा 11-12 में नियमित अध्ययन रहने पर 1,000 रूपये प्रति वर्ष की दर से प्रोत्साहन राशि देने की ‘‘गार्गी पुरस्कार‘‘ योजना सत्र 1997-98 में आरम्भ की गई। वर्ष 2008-09 की बजट घोषणा में राशि रुपये1000/- से बढाकर रुपये 1500/- कर दी गई है। वर्ष २००९-१० में इस योजना के अंतर्गत १७७२४ बालिकाओ को २६५.८६ लाख रूपए वितरित किए गए

बालिका शिक्षा प्रोत्साहन पुरुस्कार
इस योजना के अंतर्गत राजकीय और अनुदानित विद्यालयों में अध्यन कर ,माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, राजस्थान, अजमेर द्वारा आयोजित १२ वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा में विज्ञानं , कला ,वाणिज्य और उपाध्याय परीक्षा में ७५%और इससे अधिक अंक प्राप्त करने वाली बालिकाओ को पुरस्कृत किया जाता है | इस योजना में पुरुस्कार स्वरुप ३००० रु. प्रति बालिका दी जाते है |यह योजना सत्र २००८-०९ में प्रारम्भ की गई |सत्र २००९-१० में इस योजना के अंतर्गत ३२७८ बालिकाए लाभान्वित हुई |

इदिरा प्रियदर्शनी पुरुस्कार

इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक जिले में बोर्ड की ८ ,१० और १२ की परीक्षाओ में जिले में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाली अनुसूचित जाती ,अनुसूचित जनजाति ,अन्य पिछड़ा वर्ग ,अल्पसंखयक और निशक्त छात्राओ को क्रमश: २५०००,४०००० और ५०००० रूपए का इंदिरा प्रियदर्शनी पुरुस्कार १९ नवम्बर को दिया जाता है |यह पुरुस्कार वर्ष २०१०-११ से शुरू किया गया है |
प्रस्तुति- प्रमोद कुमार चमोली

No comments:

Post a Comment